जर्मनी पर मनोहर श्याम जोशी की उड़ती नजर

मनोहर श्याम जोशी हिंदी में एक अलग तरह की क़िस्सागोई के लिए जाने जाते हैं। ख़ास चुटीला अन्दाज़ और उसमें व्यंग्य का अनूठा तड़का, आप एक बार पढ़ना…

वो टीवी वाला कश्मीर नहीं था

अनु सिंह चौधरी : एक टीवी जर्नलिस्ट रही अनु सिंह चौधरी जब कश्मीर गई तो उन्हें वो कश्मीर कहीं नज़र नहीं आया जो उन्होंने टीवी…

ईमानदारी केवल उत्तराखंड की ही बपौती नहीं है : भाग-1

विनीत फुलेरा : उत्तराखंड के पहाड़ों से ताल्लुक़ रखने वाले विनीत फुलेरा ने ‘यात्राकार’ के लिए ये यात्रा वृत्तांत भेजा है।इस वृत्तांत की लेखन शैली…

बाइक डायरी-देहरादून से रुद्रप्रयाग

नेहा प्रकाश बाइक यात्रा सबसे रोमांचकारी और मजेदार होती है, खासकर जब आप पहाड़ों की यात्रा कर रहे हों, क्योंकि कभी आप बादलों के बीच तैरते…

केदारकांटा की ऊँचाइयों से साल 2017 को अलविदा

उमेश पंत : साल निकलने को था और साल के निकलने से पहले मुझे भी निकलना था। दिमाग़ में जो धूल जम रही थी उसे…

पिंडारी ग्लेशियर जाना है? ये रहा तरीक़ा (भाग-2)

केशव भट्ट : पिंडारी से छाँगूच, नंदा खाट, बल्जुरी के साथ ही नंदाकोट के भव्य दर्शन होते हैं। अंग्रेज शासक ट्रेल के नाम पर प्रसिद्ध…

पिंडारी ग्लेशियर जाना है? ये रहा तरीक़ा

केशव भट्ट : पिंडर घाटी क्षेत्र में पिंडारी ग्लेशियर के अलावा, कफनी तथा मैकतोली आदि ग्लेशियर हैं। बागेश्वर से इन क्षेत्रों में जाने के लिए…

उस शाम जब मुझे लगा कि मैंने ज़िंदगी की सबसे बड़ी ग़लती कर दी है

कंचन पंत : 11 नवंबर की उस शाम मैं धौलीधार रेंज की एक पहाड़ी के ऊपर खामोश बैठी थी। मेरे देखते-देखते सूरज सामने पहाड़ी के…

नीले पानी में सफ़ेद इमारतों के अक्स वाला शहर

अनुलता राज नायर : कितनी मीठी गुज़ारिश है…और किसी शहर की गुज़ारिश ठुकराई न जा सके वो शहर मेरे ख़याल से उदयपुर है| झीलों का…

कच्‍छ कथा-1 : थोड़ा मीठा, थोड़ा मीठू

अभिषेक श्रीवास्तव  : गुजरात की सरकार पिछले कई दिनों से एक विज्ञापन कर रही है जिसमें परदे पर अमिताभ बच्‍चन कहते हैं, ”जिसने कच्‍छ नहीं…
Aadi Kailas trek last point

17 हज़ार फ़ीट की ऊँचाई पर दिखती है ज़िंदगी की गहराई

यह उमेश पंत के यात्रावृत्तांत ‘इनरलाइन पास’ का एक अंश है. पूरा यात्रा वृत्तांत पढ़ने के लिए किताब यहां से मंगा सकते हैं.   हम…

वो पहाड़ जहां कल्पनाएं उड़ान भरती हैं

रोहित जोशी :   तेज़ बर्फीली हवाओं से घिरा नाभीडांग! मनमोहक वनस्पति को हम काफी नीचे छोड़ आए हैं. अब जो है वो गहरी काली…

सोलांग वैली : बर्फ से बाबस्ता वो ढाई घंटे

ये एक आम ट्रिप होने जा रहा था. हम पहली रात कुल्लू (हिमांचल प्रदेश) में एक होटल बुक कर चुके थे. जिसकी बालकनी से जगमगाता…

अमेरिका नाम तो सुना होगा ! (पार्ट-2)

अमेरिका में मेरी पहली सुबह बारिश की फुहारें लेकर आयी सुबह होते ही जिन्दगी का सबसे कठिन सवाल मेरे सामने था जी हाँ पापी पेट…

अमेरिका, नाम तो सुना होगा !

मुकुल श्रीवास्तव :   अमेरिका नाम तो आपने जरूर सुना होगा और हर भारतीय की तरह वहां जाने की इच्छा भी जरुर की होगी। मैं…
error: Content is protected !!