इनक्रोचमेंट, डिमोल्यूशन एंड डिस्प्लेसमेंट

(Last Updated On: October 16, 2019)

सुबह सुबह नौएडा मोड़ से गुजरते हुए सड़क के किनारे देखा तो वहां मां दुर्गा की वो मूर्ति नहीं थी, ना ही नटराज की। वहां कुछ लोग थे जो बुल्डोजर लेकर कच्ची ईंटों से बने उन कच्चे घरों को तोड़ रहे थे जहां अब तक वो कुछ लोग रहते थे, जिनका रहना वहां गैवाजिब था, उन लोगों के लिये जिनके लिये लोकतंत्र सबसे उपर है और कानून उससे भी उपर। इसीलिये इन लोगों का वहां रहना गैरकानूनी समझा गया और आज उनको वहां न रहने देने के पूरे इन्तजाम कर दिये गये।

दस बजे के आसपास पुलिस वहां आई और सबकुछ तोड़ दिया गया। पुलिस के हाथों में डंडे थे और मन में एक ईरादा कि आज सब टूटकर रहेगा। पर उनके इस इरादे में उन लोगों के दिलों के टूट जाने का इल्म भी कहीं नहीं होगा क्योंकि उसकी कीमत शायद उनके लिये है ही नहीं। और हो भी तो जब तक वो वर्दी में हैं वो वो नहीं पुलिस वाले हैं, सरकार के नुमाईंदे। और इस वर्दी में एक चीज जिसे लोकतंत्र कहा जाता है उन्हें शायद याद नहीं रहता। हांलाकि सरकार खुद इस तरह के अतिक्रमण के खिलाफ अपनी हर मुहिम के बाकायदा तस्वीर लेकर सबूत अपने पास रखती है, पर ना जाने पुलिस वालों का ये कैसा गैरलोकतांत्रिक रवैया है एक आम आदमी जब इसकी तस्वीर लेना चाहता है तो उसे सख्त लफजों में मना कर दिया जाता है।

कारण पूछने पर आपको आंखें दिखाई जाती हैं और कहा जाता है कि आप अपना काम करो। खैर कुछ तस्वीरें उनके ना चाहते हुए ले ली हैं। जो यहां छाप रहा हूं। एक सवाल छोड़ते हुए कि अब इन लोगों का क्या होगा। क्या सरकार इस बारे में कुछ सोच पायेगी। कानूनी दायरे में रहकर देखें तो ये लोग गलत हो सकते हैं जो अपनी मरजी से कहीं भी अपने लिये बसेरा बना लेते हैं लेकिन सवाल ये है कि इनकी मरजी ही चलती तो क्या रोज रोज एक जगह से दूसरी जगह खदेड़ दिये जाने की नियति लिये ये इस तरह यहां रहते।

शायद इन लोगों की सबसे बड़ी गलती यही है कि इनके पास हजारों रुपये किराया देकर कमरे में रहने की हैसियत नहीं है। इतना पैसा नहीं है। इसीलिये वो हक भी नहीं कि ये लोग सड़कों के किनारे अपना घर बना कर रह सकें।

ये एक छोटा सा नमूना है कि ये इन्सानी जिन्दगी कितनी पूंजीकेन्द्रित है। पास में अगर एक हाई क्लास मैटोस्टेश हो, विदेशियों के रहने के लिये आलीशान होटल बन रहे हों और करोड़ों खर्च करके बनाया गया भव्य अक्षरधाम मन्दिर हो तो ऐसे में इन लोगों का रहना यहां कतई शोभा नहीं देता ऐसा शायद आपमें से कई लोगों का मानना होगा।

पर इनका मानना क्या है ये सोच पाने की समझ हम आप में ना सही कम से कम सरकार में तो हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!
गोवा ट्रिप पर इन 10 बेस्ट बीच पर ज़रूर जाएं फी फी आइलैंड फुकेत में घूमने की जगहें ट्रैवल इंश्योरेंस क्या है और क्यों है ज़रूरी मुनस्यारी में घूमने की टॉप 5 जगहें थाईलैंड के फुकेत में घूमने की टॉप 5 जगहें थाईलैंड ट्रिप से पहले जान लें ये 5 ज़रूरी बातें भारत में घूमने के लिए टॉप 10 झीलें शिलांग में घूमने की टॉप 5 जगहें मुंबई के आस-पास के टॉप 5 बीच उत्तराखंड में घूमने की टॉप 6 जगहें