रद्दी के अख़बार सरीखा खाली सा बेकार सा दिन

रद्दी के अख़बार सरीखा खाली सा बेकार सा दिन उमेश पंत रद्दी  के  अख़बार  सरीखा खाली  सा बेकार  सा दिन हफ़्ताभर  थक  हार के  लौटे…
error: Content is protected !!