Famous landmarks of ancient Rome

रोम के कोलोज़ियम और ट्रैवी फ़ाउंटेन के साथ वेटिकन का सफ़र

When in Rome, do as romans do. सेंट ऑगस्टीन की कही इस बात को मानते हुए, अपनी यूरोप यात्रा के आखरी पड़ाव पर, हम आ…

कुछ ऐसा था ऐफ़िल टावर वाले पेरिस का नज़ारा

ज़िंदगी में कुछ चीज़ें अचानक होती हैं. मेरी यूरोप यात्रा भी एक दिन ऐसे ही अचानक तय हो गई.  दिल्ली के इंदिरा गांधी एयर पोर्ट…

ल्यूसर्न की रूस नदी और ख़ूबसूरत चैपल ब्रिज

अपनी यूरोप यात्रा के अगले दिन हम सुबह-सुबह बस में बैठकर पेरिस से ल्यूसर्न की तरफ़ निकले. ये सफ़र क़रीब 600 किलोमीटर का था और…

फ़्लोरेंस की अनोखी मूर्तियां और पीसा की झुकी मीनार

किताबों के पन्ने पलटते हुए माइकलएंजिलो और गैलीलियो के नाम ज़िंदगी में आए और ज़िंदगी के पन्ने पलटते हुए आज मैं उनकी यादों के शहर…

हिमाचल के जिभी में बर्फ़, बारिश और धूप के मज़े

बर्फ़ का गिरना दुनिया के सबसे मुलायम और ख़ूबसूरत अहसासों में से एक है. गिरती हुई बर्फ़ आपको अपने भीतर मौजूद सुकून की तरफ़ ले…

गुलाबी नगरी जयपुर का सफ़र

वो दोपहर का वक्त था जब हम दिल्ली से जयपुर की तरफ़ रवाना हुए. दिल्ली-जयपुर हाइवे गुड़गाँव से होकर निकलता है. यह एक पारिवारिक ट्रिप…

लहराते समंदर पर बना अनूठा शहर है वेनिस 

यह 2018 में की गई मेरी यूरोप यात्रा के वृत्तांत हैं जो दैनिक भास्कर में सिलसिलेवार प्रकाशित हो रहे हैं. पूरी यूरोप यात्रा सीरीज़ पढ़ने…

यूरोप का सबसे बड़ा झरना और क्रिस्टल का जादुई संग्रहालय

यह 2018 में की गई मेरी यूरोप यात्रा के वृत्तांत हैं जो दैनिक भास्कर में सिलसिलेवार प्रकाशित हो रहे हैं. पूरी यूरोप यात्रा सीरीज़ पढ़ने…

दुनिया के सबसे बड़े नदी द्वीप माजुली की यात्रा 

यह लेख इससे पहले दैनिक जागरण में प्रकाशित हो चुका है. मैं पूर्वोत्तर के राज्य असम के जोरहाट में था. यहां एक रोचक यात्रा मेरा…

दुनिया के पहले रोटेयर गोंडोला से माउंट टिटलिस की यात्रा

यह 2018 में की गई मेरी यूरोप यात्रा के वृत्तांत हैं जो दैनिक भास्कर में सिलसिलेवार प्रकाशित हो रहे हैं. पूरी यूरोप यात्रा सीरीज़ पढ़ने…

यूरोप की सबसे ऊंची चोटी युगफ़्राओ की यात्रा

यह 2018 में की गई मेरी यूरोप यात्रा के वृत्तांत हैं जो दैनिक भास्कर में सिलसिलेवार प्रकाशित हो रहे हैं. पूरी यूरोप यात्रा सीरीज़ पढ़ने…

गंगा की लहरों में राफ़्टिंग का मज़ा : ऋषिकेश ट्रिप-2

ऋषिकेश यात्रा का यह वृत्तांत दो हिस्सों में हैं. यहां पेश है दूसरा भाग. पहला भाग आप यहां पढ़ सकते हैं. तीसरा दिन  राफ़्टिंग का…

गंगा का शांत किनारा और पटना वॉटरफ़ॉल : ऋषिकेश यात्रा-1

ऋषिकेश यात्रा का यह वृत्तांत दो हिस्सों में है. यहां पेश है पहला भाग  पहला दिन  गंगा नदी के शांत किनारे में बीती शाम  29…

लोकतक झील के अनौखे तैरते द्वीप की यात्रा (मणिपुर ट्रिप-2)

मणिपुर यात्रा का पहला भाग यहां पढ़ें अगले दिन मणिपुर के इम्फ़ाल से करीब 40 किलोमीटर का सफ़र तय करके हम मोईरांग पहुंचे. वहां से…

कांगला फ़ोर्ट और इमा बाज़ार की यात्रा (मणिपुर ट्रिप -1)

सुबह के साढ़े-चार बज रहे थे. नेशनल हाइवे-39 पर मौजूद माओगेट से नागालैंड की सीमा समाप्त हुई और हमने मणिपुर में प्रवेश कर लिया. देश…

कामसूत्र की मूर्तियों के लिए मशहूर खजुराहो में एक दिन

साल 2016 के मार्च का महीना था. मैं तब बुंदेलखंड के बीहड़ इलाके में एक रिपोर्टिंग असाइनमेंट पर था जब पता चला कि खजुराहो यहां…

20 हज़ार फ़ीट से भी ज़्यादा ऊंचे ओम पर्वत की यात्रा

यह उमेश पंत के यात्रावृत्तांत ‘इनरलाइन पास’ का एक अंश है. पूरा यात्रा वृत्तांत पढ़ने के लिए किताब यहां से मंगा सकते हैं. हम इस…

वैली ऑफ़ फ़्लावर यात्रा : भाग-2

वैली ऑफ़ फ़्लावर यात्रा का पहला हिस्सा यहां पढ़ें.  चौथा दिन  गोविंदघाट–घंघरिया 27 जून 2016 सुबह-सुबह हम गोविंदघाट के अपने होटल से निकल गए. गुरुद्वारे…

वैली ऑफ़ फ़्लावर यात्रा : भाग-1

पहला दिन  दिल्ली– देवप्रयाग 24 जून 2016   वैली ऑफ़ फ़्लावर जाने की तमन्ना बहुत पुरानी थी. जून का महीना चल रहा था. साल था…

पिंडारी ग्लेशियर ट्रैक पर जाने से पहले यह ज़रूर पढ़ें

नोट : यह लेख हिन्दी दैनिक अख़बार ‘दैनिक जागरण में प्रकाशित हो चुका है’   ट्रैकिंग में रुचि रखने वालों के लिए पिंडारी ग्लेशियर ट्रैक…

उत्तराखंड बाइक यात्रा – 5

पाँचवा दिन : गंगोलीहाट- बागेश्वर – सोमेश्वर – रानीखेत सुबह-सुबह गंगोलीहाट से निकल पड़े. आज का पड़ाव अभी तय नहीं हुआ था. मगर इस बार…

अलीबाग, काशिद, मुरुड और दिव्यागार बीच का सफ़र

मुंबई में रहते हुए कभी-कभी मुंबई से  दूर जाने का मन होता है। पागल करती भीड़ से दूर। एक बेवजह सा प्रदूषित ठहराव लाते ट्रेफिक…

अरुणाचल प्रदेश यात्रा : बोमडिला से तवांग वाया सेला पास

यह लेख मूलतः  ‘दैनिक जागरण’ के लिए लिखा गया था जो अख़बार के ‘सप्तरंग’ पन्ने पर प्रकाशित हो चुका है.      पूर्वोत्तर के शांत…

पिंडारी ग्लेशियर ट्रैक : भाग-3

यहां पढ़ें पिंडारी ग्लेशियर ट्रैक : भाग-1 पिंडारी ग्लेशियर ट्रैक : भाग-2 दिन 4 14 जून 2019 फुरकिया–ज़ीरो पॉइंट–द्वाली सुबह-सुबह नींद खुली तो सर का भारीपन…

पिंडारी ग्लेशियर ट्रैक : भाग-2

यहां पढ़ें : पिंडारी ग्लेशियर ट्रैक – भाग एक  दिन 3 13 जून 2019 खाती–फुरकिया सुबह के 8 बजे जब हम खाती गाँव से निकले तो…

पिंडारी ग्लेशियर ट्रैक : भाग-1

नौ जून की रात के नौ बजे तक मैं अपना सारा ज़रूरी सामान एक रकसैक में डाल चुका था। कुछ गर्म कपड़े, साफ़-सफ़ाई का सामान,…

हमारे बीच वो लोग अभी ज़िंदा हैं : जयपुर यात्रा भाग-4

तुलिका पांडेय गोरखपुर से हैं. लखनऊ में रहती हैं. अंग्रेज़ी साहित्य में मास्टर किया है पर लिखती हिंदी में हैं. अंडमान नीकोबार आइलैंड सहित आठ…

लपक के छूना हिमालय को : ब्रह्मताल ट्रेकिंग भाग-2

विनीता यशस्वी नैनीताल से हैं. खूब घुमक्कड़ी करती हैं और देखे गए नज़ारों को शानदार तस्वीरें में भी उकेरती हैं. उत्तराखंड के ब्रह्मताल ट्रेकिंग के…

लपक के छूना हिमालय को : ब्रह्मताल ट्रेकिंग भाग-1

विनीता यशस्वी नैनीताल से हैं. खूब घुमक्कड़ी करती हैं और देखे गए नज़ारों को शानदार तस्वीरें में भी उकेरती हैं. उत्तराखंड के ब्रह्मताल ट्रेकिंग के…

हमारे बीच वो लोग अभी ज़िंदा हैं : जयपुर यात्रा भाग-3

तुलिका पांडेय गोरखपुर से हैं. लखनऊ में रहती हैं. अंग्रेज़ी साहित्य में मास्टर किया है पर लिखती हिंदी में हैं. अंडमान नीकोबार आइलैंड सहित आठ…

हमारे बीच वो लोग अभी ज़िंदा हैं : जयपुर यात्रा भाग-2

तुलिका पांडेय गोरखपुर से हैं. लखनऊ में रहती हैं. अंग्रेज़ी साहित्य में मास्टर किया है पर लिखती हिंदी में हैं. अंडमान नीकोबार आइलैंड सहित आठ…

हमारे बीच वो लोग अभी ज़िंदा हैं : जयपुर यात्रा भाग-1

तुलिका पांडेय गोरखपुर से हैं. लखनऊ में रहती हैं. अंग्रेज़ी साहित्य में मास्टर किया है पर लिखती हिंदी में हैं. अंडमान नीकोबार आइलैंड सहित आठ…

एक दिन मुम्बई के गोराई बीच पर

प्रशांत तिवारी उत्तर-प्रदेश के जौनपुर के रहने वाले हैं. उन्होंने माखनलाल चतुर्वेदी विश्वविद्यालय से पढ़ाई की है. फ़िलहाल भोपाल में रहते हैं और यात्राओं का…

मुनस्यारी के मोड़ों पर हमारे लिए ट्विस्ट था : भाग-3

लतिका जोशी पत्रकार हैं. उत्तराखंड से हैं. कहानियां और कविताएं भी लिखती हैं. उनकी यात्राओं के क़िस्से पहले भी यात्राकार पर प्रकाशित हो चुके हैं.…

मुनस्यारी के मोड़ों पर हमारे लिए ट्विस्ट था : भाग-2

लतिका जोशी पत्रकार हैं. उत्तराखंड से हैं. कहानियां और कविताएं भी लिखती हैं. उनकी यात्राओं के क़िस्से पहले भी यात्राकार पर प्रकाशित हो चुके हैं.…

मुनस्यारी के मोड़ों पर हमारे लिए ट्विस्ट था : भाग-1

लतिका जोशी पत्रकार हैं. उत्तराखंड से हैं. कहानियां और कविताएं भी लिखती हैं. उनकी यात्राओं के क़िस्से पहले भी यात्राकार पर प्रकाशित हो चुके हैं.…

दार्जिलिंग मेरे बचपन का स्विट्ज़रलैंड है : भाग-3

प्रतीक्षा रम्या कोलकाता में रहती हैं. पत्रकारिता की छात्रा रही हैं. उन्होंने कोलकाता से दार्जिलिंग की अपनी यात्रा की कहानी विस्तार से हमें लिख भेजी…

नया यात्रा वृत्तांत- नास्तिकों के देश में: नीदरलैंड

प्रवीण झा नॉर्वे (यूरोप) में रहते हैं. हिन्दी लेखन में लगातार सक्रिय हैं. पेशे से डॉक्टर हैं और मन से यायावर. संगीत से जुड़े विषयों…

दार्जिलिंग मेरे बचपन का स्विट्ज़रलैंड है : भाग-2

प्रतीक्षा रम्या कोलकाता में रहती हैं. पत्रकारिता की छात्रा रही हैं. उन्होंने कोलकाता से दार्जिलिंग की अपनी यात्रा की कहानी विस्तार से हमें लिख भेजी…

दार्जिलिंग मेरे बचपन का स्विट्ज़रलैंड है : भाग-1

प्रतीक्षा रम्या कोलकाता में रहती हैं. पत्रकारिता की छात्रा रही हैं. उन्होंने कोलकाता से दार्जिलिंग की अपनी यात्रा की कहानी विस्तार से हमें लिख भेजी…

रानीखेत : एक जगह जो एक साथ प्रेमी और वैरागी बना देती है-2

लतिका जोशी पत्रकार हैं. उत्तराखंड से हैं. कहानियां और कविताएं भी लिखती हैं. आज पेश है रानीखेत और उसके आस-पास के इलाके में की गई…

रानीखेत : एक जगह जो एक साथ प्रेमी और वैरागी बना देती है

लतिका जोशी पत्रकार हैं. उत्तराखंड से हैं. कहानियां और कविताएं भी लिखती हैं. आज पेश है रानीखेत और उसके आस-पास के इलाके में की गई…

रवीश कुमार की अमरीका यात्रा : भाग 2

रवीश कुमार वरिष्ठ पत्रकार हैं और एनडीटीवी से जुड़े हैं. हाल ही में उन्होंने अमरीका की यात्रा की. अपनी इस यात्रा के दौरान उन्होंने वहां…

रवीश कुमार की अमरीका यात्रा : भाग -1

रवीश कुमार वरिष्ठ पत्रकार हैं और एनडीटीवी से जुड़े हैं. हाल ही में उन्होंने अमरीका की यात्रा की. अपनी इस यात्रा के दौरान उन्होंने वहां…

सर्द हवाओं में लिपटा अटलांटिक का किनारा

अपूर्वा अग्रवाल आईआईएमसी से पढ़ी हैं. टाइम्स ऑफ़ इंडिया और बिज़नेस स्टैंडर्ड में  पत्रकार रह चुकी हैं. फ़िलहाल जर्मनी में ‘डोयचे वेले’ के साथ काम…

रात में जादुई नगरी लगने लगता है बुडापेस्ट

तृप्ति शुक्ला मीडिया से जुड़ी हैं. अक्सर मुस्कुराती हुई नज़र आती हैं. फ़ेसबुक पर अपने ‘क्वर्की वन लाइनर्स’ के लिए जानी जाती हैं. छिपी हुई…

हिमाचल यात्रा : किस्से ओढ़े बैठी बगल की खाली सीट

रोहित जोशी एक घुमक्कड़ पत्रकार हैं. बीबीसी, डॉयचे वेले, टाइम्स ऑफ़ इंडिया, इंडिया टीवी जैसे मीडिया संस्थानों में काम कर चुके रोहित मन से एक…

पोलैंड की वो राजधानी, जहां लोग ख़्वाब जी रहे थे

तृप्ति शुक्ला मीडिया से जुड़ी हैं. अक्सर मुस्कुराती हुई नज़र आती हैं. फ़ेसबुक पर अपने ‘क्वर्की वन लाइनर्स’ के लिए जानी जाती हैं. छिपी हुई…

नेपाल : यानी बिना पासपोर्ट, बिना वीज़ा करें परदेस की सैर

नेपाल हमारा पड़ौसी मुल्क है और घुमक्कड़ी के लिहाज़ से सैलानियों की ख़ास पसंद भी है. यात्राकार में आज उत्तराखंड के रंगमंच और कला के…

तेजपुर : मिथकों और मोहब्बत का शहर

असम के तेजपर से लौटकर लिखा गया यह लेख ‘दैनिक जागरण’ के राष्ट्रीय संस्करण में प्रकाशित हो चुका है. लहराती हुई विशाल ब्रह्मपुत्र नदी के…

एक पोस्टकार्ड ‘चाय कंट्री’ कर्स्यांग से

कर्स्यांग पश्चिम बंगाल के दार्ज़ीलिंग ज़िले का एक पहाड़ी इलाक़ा है जिसे ‘चाय कंट्री’ भी कहते हैं. पढ़िए, दार्ज़ीलिंग से 32 किलोमीटर दूर इस पहाड़ी…

वो टीवी वाला कश्मीर नहीं था

अनु सिंह चौधरी : एक टीवी जर्नलिस्ट रही अनु सिंह चौधरी जब कश्मीर गई तो उन्हें वो कश्मीर कहीं नज़र नहीं आया जो उन्होंने टीवी…

ईमानदारी केवल उत्तराखंड की ही बपौती नहीं है : भाग-1

विनीत फुलेरा : उत्तराखंड के पहाड़ों से ताल्लुक़ रखने वाले विनीत फुलेरा ने ‘यात्राकार’ के लिए ये यात्रा वृत्तांत भेजा है।इस वृत्तांत की लेखन शैली…

बाइक डायरी-देहरादून से रुद्रप्रयाग

नेहा प्रकाश बाइक यात्रा सबसे रोमांचकारी और मजेदार होती है, खासकर जब आप पहाड़ों की यात्रा कर रहे हों, क्योंकि कभी आप बादलों के बीच तैरते…

केदारकांटा की ऊँचाइयों से साल 2017 को अलविदा

उमेश पंत : साल निकलने को था और साल के निकलने से पहले मुझे भी निकलना था। दिमाग़ में जो धूल जम रही थी उसे…

पिंडारी ग्लेशियर जाना है? ये रहा तरीक़ा (भाग-2)

केशव भट्ट : पिंडारी से छाँगूच, नंदा खाट, बल्जुरी के साथ ही नंदाकोट के भव्य दर्शन होते हैं। अंग्रेज शासक ट्रेल के नाम पर प्रसिद्ध…

पिंडारी ग्लेशियर जाना है? ये रहा तरीक़ा

केशव भट्ट : पिंडर घाटी क्षेत्र में पिंडारी ग्लेशियर के अलावा, कफनी तथा मैकतोली आदि ग्लेशियर हैं। बागेश्वर से इन क्षेत्रों में जाने के लिए…

उस शाम जब मुझे लगा कि मैंने ज़िंदगी की सबसे बड़ी ग़लती कर दी है

कंचन पंत : 11 नवंबर की उस शाम मैं धौलीधार रेंज की एक पहाड़ी के ऊपर खामोश बैठी थी। मेरे देखते-देखते सूरज सामने पहाड़ी के…

नीले पानी में सफ़ेद इमारतों के अक्स वाला शहर

अनुलता राज नायर : कितनी मीठी गुज़ारिश है…और किसी शहर की गुज़ारिश ठुकराई न जा सके वो शहर मेरे ख़याल से उदयपुर है| झीलों का…

घुमक्कड़ी, घुमक्कड़ों की नज़र से

दुनिया के मशहूर घुमक्कड़, घुमक्कड़ी की अहमियत बताते हुए बहुत कुछ कह गए हैं. पेश हैं उन्हीं में से कुछ ख़ास बातें जिनसे तमाम घुमक्कड़…

कच्‍छ कथा-1 : थोड़ा मीठा, थोड़ा मीठू

अभिषेक श्रीवास्तव  : गुजरात की सरकार पिछले कई दिनों से एक विज्ञापन कर रही है जिसमें परदे पर अमिताभ बच्‍चन कहते हैं, ”जिसने कच्‍छ नहीं…
Aadi Kailas trek last point

17 हज़ार फ़ीट की ऊँचाई पर दिखती है ज़िंदगी की गहराई

यह उमेश पंत के यात्रावृत्तांत ‘इनरलाइन पास’ का एक अंश है. पूरा यात्रा वृत्तांत पढ़ने के लिए किताब यहां से मंगा सकते हैं.   हम…

वो पहाड़ जहां कल्पनाएं उड़ान भरती हैं

रोहित जोशी :   तेज़ बर्फीली हवाओं से घिरा नाभीडांग! मनमोहक वनस्पति को हम काफी नीचे छोड़ आए हैं. अब जो है वो गहरी काली…

सोलांग वैली : बर्फ से बाबस्ता वो ढाई घंटे

ये एक आम ट्रिप होने जा रहा था. हम पहली रात कुल्लू (हिमांचल प्रदेश) में एक होटल बुक कर चुके थे. जिसकी बालकनी से जगमगाता…

उत्तराखंड बाइक यात्रा -4

चौथा दिन : बेरीनाग-चौकौड़ी-राईआगर-गंगोलीहाट  सुबह-सुबह हम बेरीनाग से चौकोड़ी के रवाना हो गए. मौसम एकदम खुला हुआ था. आकाश एकदम साफ़ और हवा मंद मंद…

उत्तराखंड बाइक यात्रा – 3

तीसरा दिन: अल्मोड़ा-धौलछीना-सेराघाट-राईआगर-बेरीनाग सुबह के करीब साड़े नौ बजे हम अल्मोड़ा से रवाना हुए। अब तक बिना नागा भागती बाइक को अब कुछ ईंधन की…

उत्तराखंड बाइक यात्रा – 2

दूसरा दिन: नौकुचियाताल-गागर-रामगढ़-प्यूरा-अल्मोड़ा पहले दिन के सफर की थकन रात को एक अच्छी नीद में तब्दील हुई तो सुबह-सुबह आंख खुल गई। करीब साढ़े छह…

उत्तराखंड बाइक यात्रा -1

पहला दिन: दिल्ली-रामपुर-नौकुचियाताल 21 नवम्बर से 27 नवम्बर हम लगातार हिमालय का पीछा करने वाले थे। 20 तारीख की सुबह ठीक साड़े छह बजे जब…
error: Content is protected !!