umesh pant

त्रयम्बकेश्वर, जहां 12 साल में लगता है कुंभ मेला

अगर कभी हसीन पहाड़ी वादियों में जाकर धार्मिक आस्था से सराबोर होने का मन हो तो त्रयम्बकेश्वर आपके लिए एकदम Read More

पिंडारी ग्लेशियर ट्रैक पर जाने से पहले यह ज़रूर पढ़ें

नोट : यह लेख हिन्दी दैनिक अख़बार ‘दैनिक जागरण में प्रकाशित हो चुका है’   ट्रैकिंग में रुचि रखने वालों Read More

अलीबाग, काशिद, मुरुड और दिव्यागार हैं मुंबई के इर्द-गिर्द सुकून के किनारे

मुंबई में रहते हुए कभी-कभी मुंबई से  दूर जाने का मन होता है। पागल करती भीड़ से दूर। एक बेवजह Read More

अरुणाचल प्रदेश यात्रा : बोमडिला से तवांग वाया सेला पास

यह लेख मूलतः  ‘दैनिक जागरण’ के लिए लिखा गया था जो अख़बार के ‘सप्तरंग’ पन्ने पर प्रकाशित हो चुका है.  Read More

पिंडारी ग्लेशियर ट्रैक : भाग-3

यहां पढ़ें पिंडारी ग्लेशियर ट्रैक : भाग-1 पिंडारी ग्लेशियर ट्रैक : भाग-2 दिन 4 14 जून 2019 फुरकिया–ज़ीरो पॉइंट–द्वाली सुबह-सुबह नींद Read More

पिंडारी ग्लेशियर ट्रैक : भाग-2

यहां पढ़ें : पिंडारी ग्लेशियर ट्रैक – भाग एक  दिन 3 13 जून 2019 खाती–फुरकिया सुबह के 8 बजे जब हम Read More

पिंडारी ग्लेशियर ट्रैक : भाग-1

नौ जून की रात के नौ बजे तक मैं अपना सारा ज़रूरी सामान एक रकसैक में डाल चुका था। कुछ Read More

नज़ारे, नागालैंड की ख़ूबसूरत ज़ूको वैली के

नागालैंड देश के उन राज्यों में से हैं, जिसके बारे में लोग आज भी कम जानते हैं. इस राज्य में Read More

तेजपुर : मिथकों और मोहब्बत का शहर

असम के तेजपर से लौटकर लिखा गया यह लेख ‘दैनिक जागरण’ के राष्ट्रीय संस्करण में प्रकाशित हो चुका है. लहराती Read More

तो ऐसी है वैली ऑफ़ फ़्लावर्स की दुनिया

उत्तराखंड में यूं तो ट्रेकिंग के कई ठिकाने हैं, लेकिन एक जगह जहां आपको अपनी ज़िंदगी में एक बार ज़रूर Read More

उत्तराखंड में ट्रेकिंग के ख़ूबसूरत ठिकाने केदारकांटा की तस्वीरें

उमेश पंत : उत्तराखंड में उत्तरकाशी ज़िले के सांकरी नाम के एक छोटे गाँव से खुलते हैं जन्नत के दरवाज़े। Read More

केदारकांटा की ऊँचाइयों से साल 2017 को अलविदा

उमेश पंत : साल निकलने को था और साल के निकलने से पहले मुझे भी निकलना था। दिमाग़ में जो Read More

नैन सिंह रावत : एक पहाड़ी ‘ट्रेवल सूपर हीरो’

उमेश पंत : चलते-चलते दिमाग भी एक यात्रा पर निकल पड़ता है. वो यात्रा जो थकान के एहसास को कहीं Read More

Beasts of the Southern Wild : एक तबाह होती दुनिया की सबसे अच्छी जगह

 उमेश पंत : Beasts of the Southern Wild हशपपी का खुद पर और जीवन की अच्छाईयों पर एक गहरा और Read More

Into the Wild : बाहर की दुनिया में मन के अंदर की यात्रा

उमेश पंत : Into the Wild …..और एक दिन वो सब कुछ छोड़ कर चला जाता है। कहीं दूर अलास्का Read More

17 हज़ार फ़ीट की ऊँचाई पर दिखती है ज़िंदगी की गहराई

सुबह उठते हुए कुछ देर हो गई. साढ़े सात बज चुका था. “अरे आप लोग उठे नहीं अभी.. आदि कैलास Read More

सोलांग वैली : बर्फ से बाबस्ता वो ढाई घंटे

उमेश पंत :   ये एक आम ट्रिप होने जा रहा था. हम पहली रात कुल्लू (हिमांचल प्रदेश) में एक Read More

आपकी ज़िंदगी से बात करती एक फिल्म : ‘Her’

 फेसबुक पर एक दोस्त के स्टेटस को देखकर ये फिल्म डाउनलोड की और अब रात के दो बजकर 30 मिनट हो Read More

‘उत्तराखंड आन्दोलन’का जनगीत ‘लस्का कमर बांधा’

पिछली पोस्ट में आपने सुना उत्तराखंड के  मशहूर जनकवि और गीतकार हीरा सिंह राणा का गाया  गीत ‘संध्या ‘. आज Read More

लड़के के लिए तबाह होती जिंदगियों का ‘किस्सा’

  पिछले मुंबई फिल्म फेस्टिवल में अनूप सिंह के निर्देशन में बनी फिल्म ‘किस्सा’ देखी थी.. उसी फिल्म पर की Read More

एक ‘क्वीन’का आज़ाद होना

दिल्ली में कॉलेज आने जाने वाले लड़कों के बीच एक टर्म बहुत प्रचलित है। ‘बहन जी‘। ‘बहन जी टाइप‘ होना Read More

पत्थर नहीं लगवाया तो प्रसाद नहीं दिया

(यह लेख गाँव कनेक्शन  के ४४ वें अंक में प्रकाशित हो चुका है.) अयोध्या के बारे में अब तक अर्जित मेरी Read More

सुपरमैन आफ मालेगांव

वे फैज नहीं हैं फैजा हैं इसलिए उनका अंदाजे बयां अलहदा है। फैज शब्दों से अपनी बात कहते थे फैजा Read More

मैन विद मूवी कैमरा : कैमरा जब आंख बन जाता है

फिल्मों में रुचि रखने वाले लोगों के लिए मैन विद मूवी कैमरा एक कमाल की फिल्म है। जिस दौर में Read More

एक गुफा जहां होता है पाताल लोक का अहसास

उत्तराखंड की पहाड़ी वादियों  के बीच बसे सीमान्त कस्बे गंगोलीहाट की पाताल भुवनेश्वर गुफा किसी आश्चर्य से कम नही है। Read More

क्यों खास है दिल्ली का अक्षरधाम मंदिर

‘अक्षर’ यानी कभी नष्ट न होने वाला। अपने नाम के अनुकुल ही अक्षरधाम के चप्पे-चप्पे पर भारतीय संस्कृति, ज्ञान और Read More