जर्मनी पर मनोहर श्याम जोशी की उड़ती नजर

मनोहर श्याम जोशी हिंदी में एक अलग तरह की क़िस्सागोई के लिए जाने जाते हैं। ख़ास चुटीला अन्दाज़ और उसमें व्यंग्य का अनूठा

Read more

कहानी उस ‘देस’ की जहाँ समय स्थिर है और आदमी खर्च हो रहा है

अविनाश मिश्र : भाषा को बहुत सावधानी और ख़ूबसूरती से बरतने वाले समकालीन युवा लेख़कों में अविनाश मिश्र एक जाना-पहचाना

Read more

चलते-चलते दिमाग भी एक यात्रा पर निकल पड़ता है

श्रीश के पाठक : समीक्षा : इनरलाइन पास  यात्रा वृत्तांत  हिंदयुग्म प्रकाशन बड़ी मुश्किल से हम गर्भ के कोकून से

Read more